yahi hai chitrakoot

yahi hai chitrakoot

चित्रकूट की एक सुहानी शाम

चित्रकूट की एक सुहानी शाम

चित्रकूट की एक सुहानी शाम

चित्रकूट की एक सुहानी शाम

हे मंगलमय दीपमालिके आपका सुस्‍वागतम

हे मंगलमय दीपमालिके आपका सुस्‍वागतम

चित्रकूट की एक शाम

चित्रकूट की एक शाम

Wednesday, April 3, 2013

अपने नकारा, अब 'हरिहर' सहारा

हमीरपुर, निज प्रतिनिधि : 'दाता एक राम भिखारी सारी दुनिया..' से प्रेरणा लेकर भरुआ सुमेरपुर के कैथी गांव के लोगों ने अपनी समस्याओं का पुलिंदा अब 'भोले बाबा' के मंदिर में विधिवत हवन पूजन कर 'राम' को सौंप दिया है। ग्रामीणों का कहना है कि अब इस राम नाम उद्घोष यज्ञ की पूर्णाहुति तभी होगी, जब सूबे के मुखिया अखिलेश सिंह यादव आकर मंदिर के ओसारे पर उनके साथ बैठकर राम-राम करेंगे।

छह हजार की आबादी वाले बड़े गांव कैथी में अब तक बिजली लापता है तो सड़कें भी नदारद हैं। गांव के रहने वाले अरिमर्दन सिंह कहते हैं कि भइया आजादी के बाद से गांव से समस्याओं को खत्म कर शिक्षा, स्वास्थ्य, पेयजल, बिजली, सड़क और अन्य सुविधाओं को दिए जाने की गुहार छह हजार की आबादी वाले ग्राम सभा के हर ग्रामीण में हर एक अधिकारी की चौखट पर लगाई है, पर किसी का दिल नहीं पसीजा। नेताओं से चुनाव के समय आश्वासनों की चासनी मिली तो अधिकारी भी उसी अंदाज के मिले। कभी किसी अधिकारी से गांव आकर समस्याएं देखने का आश्वासन मिला तो उसका स्थानांतरण हो गया। अब गांव की दूसरी व तीसरी पीढ़ी इस आजाद भारत में अंधेरे में पैदा हो रही है। तो क्या करें, अब तो उसी दाता का आसरा है इसलिए अब सभी गांव वालों ने मिलकर यह निर्णय लिया है कि हमें किसी से भी गिला शिकवा या शिकायत नही है। मंदिर में राम बहादुर यादव, विकास शिवहरे, अवधेश, राम विलास सिंह, जितेन्द्र सिंह चौहान, उम्मेद सिंह, वासुदेव निषाद, रामदास कुटार, खुशी राम, शिव चरन ने कहा कि हमें अब अपने भगवान से मतलब है। हमारी पूरी शिकायत अब उस पैदा करने वाले से हैं कि क्या हमारा गांव दूसरे गांवों जैसा नहीं है। जब अन्न यहां पर उपजता है और हैंडपम्प पानी देते हैं तो सड़क पर चलने का अधिकार हमारा नहीं है या फिर हमारे बच्चों को सही ढंग से पढ़ने इलाज कराने और बिजली से गांव रोशन होने से वंचित क्यों किया है।

No comments:

Post a Comment