yahi hai chitrakoot

yahi hai chitrakoot

चित्रकूट की एक सुहानी शाम

चित्रकूट की एक सुहानी शाम

चित्रकूट की एक सुहानी शाम

चित्रकूट की एक सुहानी शाम

हे मंगलमय दीपमालिके आपका सुस्‍वागतम

हे मंगलमय दीपमालिके आपका सुस्‍वागतम

चित्रकूट की एक शाम

चित्रकूट की एक शाम

Monday, March 16, 2009

धर्म-नगरी "चित्रकूट" से सम्बंधित इस ब्लॉग में आपका स्वागत है !

अनेक ऋषि-मुनियों की तपोस्थली और बारह वर्षों तक भगवान श्री राम की कर्म स्थली रही इस विश्व विख्यात नगरी से सम्बंधित इस ब्लॉग में आप सभी पाठको का स्वागत है .भारतीय उपमहाद्वीप के ह्रदय-क्षेत्र में स्थित इस पावन धरा के पौराणिक,ऐतिहासिक,सांस्कृतिक और वर्तमान "सामाजिक-राजनीतिक" महत्व को वैश्विक मंच प्रदान करने की मेरी इस कोशिश में आप सभी का भी सहयोग अपेक्षित है. यदि आपके पास चित्रकूट से सम्बंधित कोई उपयोगी या शोधात्मक प्रकाश्य सामग्री है तो आप हमें जरूर भेजें. साथ ही इस ब्लॉग को और अधिक परिमार्जित स्वरुप प्रदान करने हेतु अपनी राय हमें अवश्य दें .
आपका,
संदीप रिछारिया
email: sandeep.richhariya@gmail.com

1 comment:

  1. aapka prayas stutya hai .aasha hai ki vidvat varg aage aayega sahyog ke liye. hamare jaise samanya jan aur janne kee utsukta banaye rakhenge.
    aaj bhee chitrakoot dharmik /adhyatmik sthal hai. jane par man ko sheetalta miltee hai . lekin bharat ke anya dharmik dharoharon se tulna karen to is dharohar ke prati udaseenta ek tees paida kartee hai .
    aasha hai samoohik prayas se chavi badlegee .

    ReplyDelete